कश्मीर का हल

खून खौल रहा है ना, मेरा भी खून उबाल मार रहा है|

पहले सुकमा में २५ जवान शहीद और उनके शवों के साथ छेड़छाड़ अब कश्मीर में पाकिस्तान की सेना द्वारा भारत के सेना के दो सैनिकों की 200 मीटर अन्दर आकर हत्या और उनके शवों के साथ छेड़छाड़|

ये देखकर गरियाने का मन करता है तो गरिया लेते हैं| आप गरियाइए मोदी को, राजनाथ को, जेटली को| आप उनके विकल्प देख रहे हैं| जबकि मैं समस्या की असली जड़ देखने में यकीन रखता हूँ| पढ़ना जारी रखे कश्मीर का हल

लोगों का कष्ट बढाते बैंक

एक्सिस बैंक की उत्तम नगर की शाखा आम तौर पर खाली ही रहती है, कोई आदमी सरकारी बैंकों के होते हुए वहां जाना पसंद भी नहीं करता| परन्तु वर्तमान के हालात को देखते हुए हम 300 से ज्यादा लोग 2-3 किलोमीटर लम्बी लाइन में सुबह 6-7 बजे से खड़े हुए थे| हम लोगों के घरों में इतना भी कैश नहीं था कि घर का खर्चा भी चल सके| कुछ लोगों के परिवार वाले, किसी के बच्चे हस्पताल में भर्ती थे तथा उन्हें कैश तुरंत चाहिए था| पढ़ना जारी रखे लोगों का कष्ट बढाते बैंक

वेद, आयुर्वेद और मांसाहार

हम रोजाना उठते हैं, प्रार्थना में अपने शास्त्रों का पठन करते हैं और समझते हैं कि हमारे पुरखों ने ग्रन्थ लिखे, हम तक ऐसे के ऐसे पहुंचे और हम उनको पढ़कर लाभान्वित हो रहे हैं। अगर आप ऐसा समझते हैं तो हम सरासर गलत हैं। पढ़ना जारी रखे वेद, आयुर्वेद और मांसाहार

अम्बेडकर और दलितिस्तान

भीमराव अम्बेडकर ने आज़ादी की लड़ाई में कोई भूमिका नहीं निभाई थी। भले ही वो दलितों की लड़ाई लड़े हों, यदि उनके मनसूबे पूरे होते तो आज आप भारत, पाकिस्तान, और बांग्लादेश (तब का पूर्वी पाकिस्तान) के साथ भारत की ही जमीन पर बना हुआ एक और देश देखते जिसका नाम होता “दलितिस्तान”। पढ़ना जारी रखे अम्बेडकर और दलितिस्तान

अनोखा वुट्ज़ स्टील

EPIC Channel के Made in India Series में दिखाए गए Wootz Steel कार्यक्रम (हिंदी भाषा) में प्रस्तुत किये गए कुछ तथ्य निम्नलिखित हैं। इस कार्यक्रम का यूट्यूब रिकॉर्डिंग उपलब्ध नहीं है। पढ़ना जारी रखे अनोखा वुट्ज़ स्टील

भारत को आज़ादी नहीं मिली

1930 के दशक में कांग्रेस सिर्फ डोमिनियन स्टेटस चाहती थी और इसी बाबत कांग्रेस का नरम दल सरकार से बात करता था एवं गरम दल को खत्म किया जाता रहा था। सुभाष बाबू ने द्वितीय विश्व युद्ध की भविष्यवाणी 1937 में ही कर दी थी। 1939 में जर्मनी के फ़्रांस पर हमले के वक्त गांधी की इच्छा के विरुद्ध सुभाष बाबू पुनः कांग्रेस के राष्ट्राध्यक्ष बन गए थे और वो देशव्यापी आंदोलन चला संकटग्रस्त इंग्लैंड को दबाना चाहते थे। मगर गाँधी और नेहरू कहते थे कि हमें ब्रिटेन की बर्बादी पर आज़ादी नहीं चाहिए और कोई आंदोलन अभी नहीं होगा। पढ़ना जारी रखे भारत को आज़ादी नहीं मिली

जाट आरक्षण की आग

स्वराज-स्वराज सुनते सुनते कान पक गए हैं। कोई दिल्ली में स्वराज लाना चाहता है तो कोई बिहार, पंजाब या हरियाणा में। मगर ना तो जनता और शायद ना ही ऐसा बोलने वाले राजनेता जानते हैं कि जिस देश में वो रहते हैं उसमें आज तक पूर्ण स्वराज ही स्थापित नहीं हो पाया है। भारत को कभी पूर्ण आज़ादी मिली ही नहीं, इसे तो बस आज़ादी के नाम पर डोमिनियन स्टेटस मतलब औपनिवेशिक स्तर का झुँझना, कुछ गहरे काँटों वाला, पकड़ा दिया गया। इसकी वजह से जो संविधान बना वो अपूर्ण है, जिसमें आरक्षण जैसी कई कमियाँ हैं। पढ़ना जारी रखे जाट आरक्षण की आग

आज़ादी मिलने और विभाजन की कहानी

हमारा देश कोई लड़कर आज़ाद नहीं हुआ, जो अपनी मर्ज़ी से विभाजन करता| पहले आज़ादी कैसे मिली ये पढ़ लो, फिर विभाजन की दास्तान सुनियेगा| अंग्रेज़ द्वितीय विश्व युद्ध के समय बहुत कमजोर थे, इतने कि वो जर्मनी, खासतौर पर हिटलर, के रहमोकरम कर जिन्दा थे| कमोबेश यही हालत अमेरिका का था| पढ़ना जारी रखे आज़ादी मिलने और विभाजन की कहानी

अजीत डोभाल पर निशाने का जवाब

अजीत डोभालआज जो लोग अपनी क्षमता ना होते हुए भी भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार पर ऊँगली उठा रहे हैं, खासकर कांग्रेसी संदीप दीक्षित तो उन्हें भारत के 2005-2010 के NSA के बारे में भी मालूम होना चाहिए| ये थे श्रीमान एम० के० नारायण, जिनकी योग्यता एक थानेदार बनने के लायक नहीं थी मगर फिर भी कांग्रेस की राजमाता श्रीमती सोनिया गाँधी ने इन्हें अपना कृपापात्र बनाकर राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार बना दिया| पढ़ना जारी रखे अजीत डोभाल पर निशाने का जवाब

कानून का काला दिन

आज देश में अंग्रेजों के बनाये गए कानून का जिसे आज़ादी के बाद कांग्रेस ने बतौर उत्तराधिकारी लिया, उसका काला दिन है| इस दिन की कालिख में भाजपा का भी योगदान है| आम आदमी पार्टी भी उतनी ही दोषी है| कांग्रेस के राज में तो बालिग़ मोहाम्मद अफरोज को नाबालिग घोषित कर दिया गया, उसका बॉन मैपिंग टेस्ट भी नहीं किया गया और रेयेरेस्ट ऑफ़ द रेयेर केस के बावजूद भी देश की संसद ने इस पर कोई एक्शन नहीं लिया|

पढ़ना जारी रखे कानून का काला दिन