रावण जैसा भाई

कहते हैं कि रावण ने अपनी बहन की रक्षा के लिए अपना जीवन, अपना परिवार, और अपना राज्य बलिदान कर दिया था तथा शत्रु की स्त्री को हरण के बाद भी छुआ नहीं था| मगर सच्चाई क्या है? आइये रावण की सच्चाई जानिए| पढ़ना जारी रखे रावण जैसा भाई

मसरत आलम भट की गिरफ़्तारी

मसरत आलम की वजह से भाजपा पर ऊँगली उठाने वाले आपिये और कांग्रेसी ये क्यों भूल जाते हैं कि वो भाजपा ही है जिसने अपने राष्ट्राध्यक्ष श्यामाप्रसाद मुख़र्जी की शाहदत सिर्फ कश्मीर को भारत से जोड़ने की अपनी वचनबद्धता की वजह से दी थी। क्यों वो भूल जाते हैं कि जिस समय कश्मीर में हिन्दू का कदम रखना भी गुनाह होता था तब नरेंद्र मोदी ने अपनी जान पर खेल कर कश्मीर के लाल चौक में तिरंगा लहरा कर दिखाया था। पढ़ना जारी रखे मसरत आलम भट की गिरफ़्तारी

समुन्द्र मंथन का इतिहास

वैज्ञानिक यह सिद्ध करते हैं कि सचमुच ये समुद्र मंथन हुआ था. अगर आपको इन बातो का यकीन ना हो तो इसे पूरा पढ़ें. समुद्रमंथन देवताओं और दानवों के बीच हुआ था जिसमें देवताओं और दानवों ने वासुकि नाग को मन्दराचल पर्वत पर लपेटकर समुद्र मंथन किया था. पढ़ना जारी रखे समुन्द्र मंथन का इतिहास

संसद का इतिहास

राज दो ही कर सकते हैं – राजा या संसद| संसद का विरोध करने वालों, सबसे पुरानी संसद की स्थापना किसने करी थी और क्यूँ करी थी, पता भी है|पुरातन भारत में हर राजा के पास मंत्रिपरिषद होती थी, जिसका एक मुख्य मंत्री होता था| मंत्रिपरिषद के हर मंत्री के पास राज्य के सभी हिस्सों का कार्यभार होता था| उदहारणतया एक मंत्री के पास पाँच गाँव होते थे तो उन पाँच गांवों के सरपंच अपने में से एक मुख्य सरपंच बनाकर मंत्री के निर्देश में कार्य करते थे| मंत्री अपने ऊपर मुख्यमंत्री को सूचित करता था तथा मुख्यमंत्री राजा से बातचीत करता था| गांवों की संख्या अधिक होने से उपमंत्री भी बनाये जाते थे|

पढ़ना जारी रखे संसद का इतिहास

नेताजी सुभाष चन्द्र बोस की कीमत बनाम भारत सरकार की क्षमता

subhash-chandra-bose
उन दिनों की तरह नहीं जब मैं मोदी सरकार और भाजपा सरकार कहा करता था मगर आज मैं अपने देश के केंद्रीय शासन को सीधे तौर पर भारत सरकार कह कर संबोधित कर रहा हूँ| मोदी सरकार प्रथम श्रेणी के मजबूत जीवत के प्रधानमंत्री द्वारा सीमित शासक और अधिक शासन चलाई जा रही मजबूत सरकार का नाम नाम है| परन्तु “मोदी सरकार” शब्दों की सत्यता वहां आकर ख़त्म हो जाती है जब वो कुछ फाइलों को जनता के सामने खोलने से मना कर देती है| ऐसा करके वो एक पुरातन छाप वाली औपनिवेशिक भारत सकरार बन जाती है जिसे १९४७ में औपनिवेशिक स्थिति प्राप्त हुई थी और जो आज तक अंग्रेजों की ब्रितानिया सरकार के नक़्शे कदम पर चलती आ रही है|

पढ़ना जारी रखे नेताजी सुभाष चन्द्र बोस की कीमत बनाम भारत सरकार की क्षमता

हिन्दू धर्म के बारे में

पहली बात तो यह है कि हिन्दू सनातन धर्म है और यह तब से जब से मानव है| इस धर्म में शाकाहारी भी हिन्दू है, मांसाहारी भी हिन्दू है, एवं सर्वाहरी भी हिन्दू है| जो भगवान् में विश्वास रखता है वो भी हिन्दू है, जो नहीं रखता वो भी| जो मंदिर जाकर पूजा करता है वो भी हिन्दू है, जो मंदिर नहीं भी जाता वो भी| जो व्यक्ति वेदों को मानता है वो भी हिन्दू है, जो वेदों को नहीं मानता वो भी| जो मूर्तिपूजा करता है वो भी हिन्दू है, जो निराकार को पूजता है हो भी| हिन्दू धर्म कई अन्य धर्मों (सिख, बौद्ध, जैन, आदि) का प्रारंभिक चरण गुरु है| इसके साथ ही यह सनातन हिन्दू धर्म कई अन्य सम्प्रदायों (निरंकारी, राधास्वामी, डेरा सच्चा सौदा, ब्रह्मकुमारी आदि) को भी अपनी अलग एवं स्वतंत्र सोच रखने का अधिकार देता है|

पढ़ना जारी रखे हिन्दू धर्म के बारे में

पीके का ईसाई सम्पर्क देने चला है हिन्दू धर्म को सीख

पीके कोई ऐसी चलचित्र (मूवी) नहीं है जिसकी कहानी लिखी, कलाकार बुक किये, निर्देशन में एक्टिंग करवाई, समादित (एडिटिंग) किया, और रिलीज़ कर दिया| अपितु यह एक विवादास्पद मूवी है जिसने सीधे सीधे धार्मिक अधिकता एवं अन्धता को लक्षित किया है| यह पद्य मेरे पहले लिखे हुए पद्य (ब्लॉग) का ही दूसरा भाग है जिसमें मैंने यह प्रमाणित करने का प्रयास किया है कि पीके किसी भी कोण से हिन्दू विरोधी नहीं है तथा यह किसी भी धर्म के विरोध में नहीं है| मगर इसका ईसाई संपर्क कहीं दाल में कुछ काले को इंगित तो नहीं करता है|

पढ़ना जारी रखे पीके का ईसाई सम्पर्क देने चला है हिन्दू धर्म को सीख