बलात्कार पीड़िता का उत्पीड़न

रेप से गुजरने वाली लड़की का असली रेप तो अदालतों में होता है …
गुजरात को हिला देने वाली बीजल जोशी रेप केस के सुनवाई के दौरान मै आठ या दस तारीख पर सुनवाई देखने के लिए खुद मेट्रो कोर्ट में जाता था … बचाव पक्ष के वकील ऐसे ऐसे जलील करने वाले सवाल करते थे की मै क्या बताऊ … चाहता तो था उसमे से कुछ सवालों को लिखूं लेकिन वो इतने अश्लील है की उन्हें लिख नही सकता ….
जिस महिला डाक्टर ने बीजल जोशी का मेडिकल किया था उससे तो बचाव पक्ष के वकीलों ने ऐसे सवाल किये की वो रोने लगी …

उस डाक्टर ने मेडिकल में लिखा था की “the vagina entirely damaged and I never seen like this in my medical carrier.”
बचाव पक्ष के वकील थे गुजरात के जाने माने क्रिमिनल लायर शुक्ल जी … उन्होंने महिला डाक्टर से पूछा — एक शादीशुदा महिला अपने बीस साल के वैवाहिक जीवन में कितनी बार सेक्स करती होगी ?

डाक्टर खामोश … फिर उस वकील ने जज साहब से बोला सर ये इस केस से ही ताल्लुक है इसलिए इन्हें जबाब देना पड़ेगा ..
फिर उस वकील ने कहा की शुरू के सालो में फ्रिव्केंसी ज्यादा होती है .. अगर मै दो दिन के एक बार की गिनती करूं तो भी ये लाखो में जायेगा … बिजल जोशी पर चार लोगो में आठ बार रेप किया तो सिर्फ आठ बार सेक्स से किसी का वैजाइना डैमेज कैसे हो गया ? यानी आपका मेडिकल गलत है …

फिर उसकी बहन वैशाली जोश के साथ भाई ऐसे ऐसे अश्लील सवाल पूछे गये .. जैसे आप अभी जींस पहनी है ..
क्या कोई आपकी मर्जी के बगैर आपके जींस का बटन खोल सकता है ? बीजल चिल्लाई क्यों नही ? आदि आदि

सबसे गंदे सवाल खुद बीजल से उसके अंत:वस्त्रो को लेकर पूछे गये …. जैसे वारदात के दिन पहने आपके ब्रा के सभी हुक सही सलामत है … जबकि आप पर दो जगहों पर आपके मुताबिक रेप हुआ ..क्या कोई आपकी मर्जी के बगैर आपका ब्रा दो दो बार खोले और उसका हुक सही सलामत रहे ऐसा सम्भव है ?

ऐसे गंदे गंदे सवालों से त्रस्त होकर आठ दिनों के बाद बीजल जोशी ने आत्महत्या कर ली थी

फिर सरकारी वकील ने कहा की पुलिस ने वो एसयूवी दिल्ली में बरामद कर ली है जिसके अभियुक्त सजल जैन भागा था .. उस एसयुवी को कोर्ट परिसर में खड़ा किया गया है उसे केस प्रापर्टी मानकर उसे जप्त करने की अनुमति दी जाए … इस पर बचाव पक्ष के वकील ने कहा की यदि मेरा मुवक्किल जहाज से दिल्ली भागा होता तो क्या आप उस जहाज को केस प्रापर्टी मानकर जप्त करते ? जज साहब खामोश हो गये और एसयूवी को छोड़ने का आदेश दिया …

बलात्कार के केस में दोनों पक्ष के वकील और जज सिर्फ महिलाये ही होनी चाहिए ..

जितेन्द्र प्रताप सिंह
Follow Me

जितेन्द्र प्रताप सिंह

जितेन्द्र प्रताप सिंह गोरखपुर, उत्तर प्रदेश से हैं और अहमदाबाद, गुजरात मेंरहते हैं| इन्होने एम०जी० इंटर कॉलेज, गोरखपुर से विद्याध्यन किया है| अभी ये जे०पी० सिंह 1975 के नाम से एक ब्लॉग चलाते हैं|
जितेन्द्र प्रताप सिंह
Follow Me

Latest posts by जितेन्द्र प्रताप सिंह (see all)

द्वारा प्रकाशित

जितेन्द्र प्रताप सिंह

जितेन्द्र प्रताप सिंह गोरखपुर, उत्तर प्रदेश से हैं और अहमदाबाद, गुजरात में रहते हैं| इन्होने एम०जी० इंटर कॉलेज, गोरखपुर से विद्याध्यन किया है| अभी ये जे०पी० सिंह 1975 के नाम से एक ब्लॉग चलाते हैं|

टिपण्णी

Loading Facebook Comments ...
Loading Disqus Comments ...

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

 

No Trackbacks.