रामचरितमानस से मन्त्र लाभ

गोस्वामी तुलसीदास जी ने हनुमान जी की आज्ञा से शुरू में संस्कृत में ही रामकथा का वर्णन करना प्रारंभ किया था। लेकिन शिव जी ने स्वप्न में कहा कि कलियुग में संस्कृत को जानने वाले लोग कम होंगे। अतः तुम सुगम भाषा में लिखो। अतः उन्होंने ऐसा किया। पढ़ना जारी रखे रामचरितमानस से मन्त्र लाभ