अनोखा वुट्ज़ स्टील

EPIC Channel के Made in India Series में दिखाए गए Wootz Steel कार्यक्रम (हिंदी भाषा) में प्रस्तुत किये गए कुछ तथ्य निम्नलिखित हैं। इस कार्यक्रम का यूट्यूब रिकॉर्डिंग उपलब्ध नहीं है।

मुगलों और अंग्रेजों का गुलाम बनने से पूर्व भारत में एक ऐसी अनोखी धातु बनती थी जिसका उत्पादन विश्व में सर्वश्रेष्ठ था। इस धातु से अपराजेय तलवारें बनती थीं।

किसी भी तलवार की ताकत नापने के दो तरीके होते हैं
1. इससे रुई को काटकर देखा जाए। हवा में रुई का गठ्ठर या तकिया फेंक जाए अउर एक ही वार में इसके दो फाड़ किये जाएँ।
2. कोई स्तम्भ लकड़ी या लौहे का एक ही वार में काटा जाए।
———————
जब इस्लामिक मुल्कों ने यूरोप में जिहाद शुरू किया तो अरब के किंग का ब्रिटेन के किंग से सामना हुआ। ब्रिटेन के किंग ने अपनी तलवार के एक ही वार से लौहस्तम्भ को दो फाड़ो में बाँट दिया। अरब के किंग ने अपनी ताकत दिखाने के लिए रूई के तकिये को हवा में उछाला और उस पर वार कर तकिये के एकदम सटीक दो फाड़ कर दिए। ब्रिटेन का किंग प्रभावित हुआ और दोनों राजाओं में समझौता हो गया।
बताते चलें कि दोनों राजाओं की तलवारें मेड इन इंडिया यानि भारत में निर्मित थीं, वो भी हमारी अद्भुत खोज से बनी हुई थीं।
————————–
यह था वुट्ज़ स्टील जिसका बंदूक़ों के अविष्कार से पहले सभी देश अपनी सेनाओं के आधुनिकीकरण के लिए या तो रॉ वुट्ज़ स्टील या सीधे ही भारत में बनी वुट्ज़ तलवारें मंगवाती थीं।

image
चित्र स्त्रोत – विकिपीडिया

वुट्ज़ स्टील का एक्सपोर्ट अरब और यूरोप में मुख्यतया होता था।
भारत के इतिहास में वुट्ज़ स्टील की तलवारों का जिक्र 1857 के स्वतंत्रता समर में आता है जब बागी सैनिकों के पास ये तलवारें होती थीं जो बंदूक से गोली चलने से पहले ही इसका वार कर चुके होते थे। अंग्रेज़ इस वुट्ज़ स्टील से इतने आहत हुए कि उन्होंने 1857 के गदर को दबाने के ठीक बाद भारत में अपने व् प्रिन्सलि स्टेट्स के सभी सैनिकों की तलवारों को बरामद कर बंदूकों से बदल दिया था, ये सभी बरामद तलवारें वुट्ज़ स्टील की बनी हुई थीं। इसके बाद अंग्रेजों ने पूरे देश में वुट्ज़ स्टील के छोटे-बड़े सभी कारखाने बन्द करवा दिए। इससे विदेशी सेनाओं को भी वुट्ज़ स्टील की आपूर्ति बन्द हो गयी।

image
चित्र स्त्रोत – विकिंग्सवर्ल्ड

इसके बाद अंग्रेज़ वुट्ज़ स्टील के कुछ सैंपल, निर्माण विधि और एकाध निर्माता भी इंग्लैंड ले गए। वहाँ अंग्रेजों ने वुट्ज़ स्टील को बनाने की लाख कोशिशें की मगर कभी कामयाब नहीं हुए और जो कुछ बना वो आज हमारे सामने मौजूदा स्टील है।

इंग्लैंड में फेल होने के बाद, जमशेद भाई टाटा के नेतृत्व में भारत में अंग्रेज़ों ने स्टील प्लांट लगवाया मगर यहाँ भी सिर्फ स्टील बना, वुट्ज़ स्टील टाटा भी नहीं बना सका।

कालांतर, जो असफल शोध कार्य हुए उनसे स्टेनलेस स्टील भी सामने आया। आज तक इंग्लैंड, भारत, चीन, तथा अमेरिका समेत कई देशों में वुट्ज़ स्टील बनाने की कोशिश हो रही है मगर अभी तक किसी को कामयाबी नहीं मिली है।

धन्य है वुट्ज़ स्टील और धन्य है भारत।

संदर्भ – http://hindi.revoltpress.com/featured/know-about-great-indian-steel-and-iron-history/
https://en.m.wikipedia.org/wiki/Wootz_steel
http://www.vikingsword.com/ethsword/pat05.html

Niels Provos Channel का Wootz Steel पर अंग्रेजी भाषा में कार्यक्रम यूट्यूब पर देखें –

टिपण्णी

Loading Facebook Comments ...
Loading Disqus Comments ...

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

 

No Trackbacks.